DEDS डेयरी उद्यमी विकास योजना 2021: लोन आवेदन ऑनलाइन, ऋण राशि व पात्रता

DEDS Dairy Loan Online Apply | DEDS Dairy Loan Registration Online | Dairy Loan Project Report | Dairy Udhyami Vikas Yojana 2021 | Dairy Entrepreneur Development Scheme | Dairy Udyami Vikas Yojana in Hindi | DEDS Dairy Loan Yojana Hindi PDF | DEDS Dairy Rin PDF Form | DEDS Scheme Dairy Farm | DEDS Dairy Loan Interest Rate | Dairy Farm Loan Scheme 2021 | Dairy Farming Loan Subsidy

न केवल भारत में बल्कि दुनिया भर में किसानों के लिए पशुपालन सबसे लाभदायक व्यवसायों में से एक है। इसके अलावा, पशुपालन को एक व्यवसाय माना जाता है जिसमें नुकसान की संभावना बेहद कम होती है। इसके अलावा, पशुपालन क्षेत्र में कई नए वैज्ञानिक तरीके विकसित किए गए हैं, जो किसानों के लिए बहुत फायदेमंद साबित हो रहे हैं। इस बात को ध्यान में रखते हुए, सरकार ने देश भर में लॉकडाउन के बीच डेयरी क्षेत्र को प्रोत्साहित करने के लिए डेयरी किसानों की मदद करने के लिए “डेयरी उद्यमी विकास योजना / Dairy Entrepreneur Development Scheme / DEDS or Dairy Udhyami Vikas Yojana” का संचालन और पहल की है।

यह भी पढ़ें – [New List] कोरोना हेतु राष्ट्रीय-राज्यवार हेल्पलाइन व व्हाट्सऐप नंबर

रिपोर्ट के अनुसार, डीईडीएस / DEDS योजना 1 सितंबर 2010 से केंद्र सरकार द्वारा शुरू की गई है। इस योजना के तहत, सरकार ने 33.33 प्रतिशत तक की सब्सिडी प्रदान करने का निर्णय लिया है और आप 7 लाख रुपये तक का ऋण यानी लोन ले सकते हैं। रिपोर्ट के अनुसार, डेयरी या भैंस पालन करने वाले व्यक्ति को कुल परियोजना लागत का 33.33 प्रतिशत तक सब्सिडी प्रदान करने का प्रावधान है। इस योजना के तहत, पशुधन विभाग 7 से 10 भैंस या गाय डेयरी को ऋण प्रदान करेगा।

डेयरी उद्यमी विकास योजना क्या है?

Dairy Udyami Vikas Yojana

About Dairy Entrepreneur Development Scheme / DEDS or Dairy Udhyami Vikas Yojana -: पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन विभाग (DAHD & F), भारत सरकार ने वर्ष 2005-06 में  “डेयरी और पोल्ट्री के लिए उद्यम पूंजी योजना / Venture Capital Scheme for Dairy and Poultry / Dairy or Poultry Udham Punji Yojana” नामक एक पायलट योजना शुरू की थी। इस योजना का मुख्य उद्देश्य डेयरी क्षेत्र में संरचनात्मक परिवर्तन लाने के लिए छोटे डेयरी फार्म और अन्य घटकों की स्थापना के लिए सहायता का विस्तार करना था।

यह भी पढ़ें – आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड व कोरोना संक्रमित/संदिग्ध को ट्रैक करें



कामधेनु / Kamadhenu Scheme और मिनी कामधेनु / Mini Kamadhenu Scheme योजनाएं
पहले भी संचालित की जाती थीं, जिसके लिए भैंस पालन के लिए खुद से बड़ी रकम चुकानी पड़ती थी। अब केंद्र सरकार ने गांवों में लोगों को रोजगार देने के साथ-साथ दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए डेयरी उद्यमी विकास योजना शुरू की है। सरकार की ओर से फाइल को मंजूरी मिलते ही सब्सिडी भी दो दिनों के भीतर दे दी जाएगी। इसके अलावा, सामान्य वर्ग के लिए 25% और महिलाओं और अनुसूचित जाति वर्ग के लिए 33 प्रतिशत अनुदान दिया जाएगा। यह सब्सिडी संबंधित डेयरी संचालक के खाते में रहेगी।

डीईडीएस योजना के तहत लोन देने वाले संस्थान:

List of Institutions Providing Loan / Credit under Dairy Entrepreneur Development Scheme / DEDS or Dairy Udhyami Vikas Yojana -: इस योजना के अंतर्गत भारत में कई राष्ट्रीय व क्षेत्रीय संस्थाएं डेरी खोलने के लिए ऋण / लोन प्रदान करती है। आप निम्नलिखित संस्थानों में जाकर अपना आवेदन जमा कर सकते हैं तथा लोन प्राप्त कर सकते हैं।

  • व्यावसायिक बैंक
  • क्षेत्रीय बैंक
  • राज्य सहकारी बैंक
  • राज्य सहकारी कृषि और ग्रामीण विकास बैंक
  • अन्य संस्थान जो नाबार्ड से पुनर्वित्त के लिए पात्र हैं।

यह भी पढ़ें – लॉकडाउन ई-पास हेतु ऑनलाइन पंजीकरण करें (सभी राज्यों के लिए)

डीईडीएस ऋण के लिए आवश्यक दस्तावेज:

List of Required Documents to Apply for Loan under Dairy Entrepreneur Development Scheme / DEDS or Dairy Udhyami Vikas Yojana -: यदि ऋण 1 लाख से अधिक है, तो उधारकर्ता को अपनी जमीन से संबंधित कुछ कागजात गिरवी रखने पड़ सकते हैं। लोन हेतु आवेदन पत्र के साथ जमा किये जाने वाले दस्तावेजों को सूची निम्नलिखित है।

  • जाति प्रमाण पत्र
  • पहचान पत्र और प्रमाण पत्र
  • प्रोजेक्ट बिजनेस प्लान की कॉपी
  • डीईडीएस योजना अनिवार्य


हालांकि, उद्यमी को पूरी परियोजना लागत का कम से कम 10 प्रतिशत निवेश खुद करना होगा। इसके अलावा, यदि किसी कारण से परियोजना 9 महीने से पहले पूरी नहीं होती है, तो परियोजना मालिक को सब्सिडी का लाभ नहीं मिलेगा। साथ ही, इस योजना के तहत दी जाने वाली सब्सिडी बैक एंडेड सब्सिडी होगी। बैक एंडेड द्वारा, हमारा मतलब है कि उस बैंक को “नाबार्ड / NABARD” द्वारा सब्सिडी जारी की जाएगी जहां से ऋण लिया गया है, और वह बैंक उस पैसे को उस व्यक्ति के नाम पर रखेगा जो ऋण दे रहा है।

यह भी पढ़ें – SBI/PNB पोल्ट्री फार्म लोन / ऋण हेतु ऑनलाइन आवेदन व पात्रता

भैंस पालन के लिए नाबार्ड से ऋण कैसे प्राप्त करें?

How to Get Loan to Buy Buffalos or Cows to Start Dairy Business from NABARD under Dairy Entrepreneur Development Scheme / DEDS or Dairy Udhyami Vikas Yojana -: डेयरी उद्यमी विकास योजना के अंतर्गत अपनी डेरी शुरू करने के लिए लोन हेतु आपको निम्नलिखित प्रक्रिया का अनुसरण करना होगा।

  • ऋण प्राप्त करने के लिए, पशु मालिक को एक राष्ट्रीयकृत बैंक या पास के पशु केंद्र में जाना होगा और नाबार्ड के तहत एक सब्सिडी फॉर्म प्राप्त करना होगा। 
  • उसके बाद, फॉर्म भरने के बाद, पशु चिकित्सक को बैंक में जायेगा और आवश्यक दस्तावेजों के साथ संलग्न करके आपको फॉर्म जमा करना होगा। 
  • जिसके बाद बैंक की ओर से पशुपालक के आवेदन को स्वीकृत कर नाबार्ड को भेज दिया जाएगा। 
  • फिर नाबार्ड पशुधन को सब्सिडी प्रदान करने के लिए बैंक को ऋण देगा।

कृपया ध्यान दें -: पशुपालन ऋण का लाभ उसी पशु मालिक को मिलेगा जिसने किसी बैंक से ऋण नहीं लिया है। 


तो इस प्रकार आप अपने घर में ही डेरी व्यवसाय को खोल सकते हैं और लॉकडाउन के चलते तो सरकार इसमें और अधिक छूट भी दे रही है। डेयरी उद्यमी विकास योजना की अधिक जानकारी के लिए कृपया नीचे दिए गए लिंक पर जाएँ। नीचे दिए गए लिंक में नाबार्ड द्वारा डेरी लोन के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते हैं तथा आवेदन पत्र पीडीएफ प्रारूप में प्रदान किया हुआ है। 

हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

आपका समर्थन

उम्मीद है आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी से जरूर लाभ मिलेगा। यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई हो तो कृपया अपने मित्रों तथा परिवारजनों के साथ जरूर शेयर करें।

यदि आपको इस जानकारी से सम्बंधित कोई जानकारी हेतु मदद चाहिए, तो आप हमसे सहायता ले सकते हैं। कृपया अपना प्रश्न नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें। हमारी टीम आपकी पूरी सहायता करेगी। यदि आपको किसी और राज्य या केंद्र सरकार की योजना की जानकारी चाहिए तो कृपया हमें कमेंट बॉक्स में हमसे पूछें।

You may also like...