UP विरासत/उत्तराधिकार अभियान प्रमाण पत्र रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन

Virasat Abhiyaan Uttar Pradesh | UP Virasat Scheme in Hindi | उत्तर प्रदेश वरासत अभियान | UP Virasat Yojana Registration | Uttaradhikar Praman Patra Registration | Virasat Praman Patra Registration | Virasat Certificate Apply Online | Virasat Certificate Apply | Virasat Yojana Hindi PDF | उत्तराधिकार / वरासत हेतु आवेदन | Uttaradhikar Virasat Avedan

उत्तर प्रदेश राज्य सरकार द्वारा “यूपी विरासत अभियान / UP Varasat Abhiyan 2021 शुरू किया गया है। यह उत्तराधिकारी अभियान (Uttaradhikari Abhiyan) सीएम योगी आदित्यनाथ द्वारा शुरू किया गया पहला अभियान है और वर्तमान में 15 दिसंबर से 15 फरवरी 2021 तक चल रहा है। उप्र विरासत अभियान ऑनलाइन आवेदन / UP Varasat Abhiyan Apply Online वर्तमान में भूमि या संपत्ति रिकॉर्ड के अद्यतन के लिए चल रहा है। 

यह यूपी विरासत योजना (UP Virasat Scheme) प्राकृतिक उत्तराधिकार अभियान के एक भाग के रूप में ग्रामीण क्षेत्रों में भूमि संबंधी मुद्दों को समाप्त करेगी। इस लेख में, हम आपको http://vaad.up.nic.in/ पोर्टल पर विरासत / उत्तराधिकारी ड्राइव के लिए आवेदन करने, लेखपाल लॉगिन, चेक स्थिति, आरसी प्रपत्र बनाने के बारे में बताएंगे।

यह भी पढ़ें => [सत्यापन] उत्तर प्रदेश भूलेख – खाता खतौनी खसरा नक्शा फर्द नक़ल

उत्तर प्रदेश विरासत अभियान 2021 ऑनलाइन आवेदन

Apply Online for UP Varasat Praman Patra

Apply Online for UP Varasat Abhiyan 2021 -: यूपी विरासत अभियान का उद्देश्य भूमि और संपत्ति के “विरासत / Virasat” के नाम पर ग्रामीणों के शोषण को खत्म करना है। उत्तर प्रदेश में यह उत्तराधिकारी अभियान लंबे समय से लंबित भूमि विवादों को समाप्त करेगा। 

इसके अलावा, राजस्व विभाग के उत्तराधिकारी अभियान में भू-माफियाओं पर भी अंकुश लगाया जाएगा जो आम तौर पर ग्रामीण इलाकों में विवादित भूमि को निशाना बनाते हैं। अब हम आपको उत्तर प्रदेश विरासत अभियान ऑनलाइन आवेदन / UP Varasat Abhiyan Apply Online प्रक्रिया के बारे में बताने जा रहे हैं।

यूपी उत्तराधिकारी अभियान आवेदन पत्र ऑनलाइन

Online Application Form for UP Uttaradhikar Abhiyan -: यूपी उत्तराधिकारी / वरसात अभियान ऑनलाइन प्रक्रिया आमतौर पर आधिकारिक वेबसाइट http://vaad.up.nic.in/index2.html पर होती है। कुछ तकनीकी समस्याओं के कारण यह वेबसाइट अस्थायी रूप से डाउन हो गई है।




अब योगी सरकार एक ऐसी योजना लेकर आई है, जिसमें ग्रामीणों को सरकारी कार्यालयों में नहीं जाना पड़ेगा। इसके बजाय, राजस्व विभाग के अधिकारी यूपी विरासत अभियान 2021 में ग्रामीणों से संपर्क करेंगे। 

उत्तर प्रदेश में उत्तराधिकारी के आवेदन इन अधिकारियों द्वारा ऑनलाइन मोड के माध्यम से लिए जाएंगे। ऑनलाइन आवेदन तथा दस्तावेजों को बनाने ने बाद सभी दस्तावेज जमीन मालिक को सौंप दिए जायेगा। 

यह भी पढ़ें => [डाउनलोड] caneup.in यूपी किसान गन्ना पर्ची कैलेंडर 2021 PDF

भूमि / संपत्ति रिकॉर्ड को ऑनलाइन अपडेट करने में विरासत अभियान की भूमिका

Uttar Pradesh Virasat Abhiyan Role for Property / Land Records Update Online -: नया विरासत अभियान राज्य के 1,08,000 राजस्व गांवों में वर्षों से लंबित मामले को निपटाने वाला है। 

ग्रामीणों को यह भी लगता है कि 15 दिसंबर को योगी आदित्यनाथ सरकार द्वारा शुरू किए गए विरासत (उत्तराधिकारी) अभियान से न केवल भूमि विवाद को समाप्त करने में मदद मिलेगी, बल्कि “लेखपाल / Lekhpal के गैर-जिम्मेदार व्यवहार पर भी अंकुश लगेगा।

उत्तर प्रदेश विरासत पोर्टल पर लेखपाल लॉगिन

Lekhpal Login at UP Virasat or Uttaradhikari Portal -: भूमि विवादों को संभालने के दौरान आमतौर पर लेखपाल गैर जिम्मेदाराना व्यवहार दिखाते हैं। लेखपाल आमतौर पर इन मामलों में दिलचस्पी नहीं लेते हैं और भूमि विवाद के प्रति अनभिज्ञ हैं। हर साल, गांवों में भूमि / संपत्ति विवाद से संबंधित बहुत बड़ी संख्या में शिकायतें होती हैं।

इस तरह के विवादों का मुख्य कारण लेखपाल के स्तर पर है जो भूमि के मामलों पर समय पर निर्णय नहीं लेते हैं और आम तौर पर भूमि से संबंधित मुद्दों के प्रति अनभिज्ञ होते हैं। इसके कारण, ग्रामीण अपने कार्यालय के चक्कर लगाते रहते हैं और बहुत कठिनाई और प्रयासों के बाद भी उनका नाम सरकारी दस्तावेजों में दर्ज नहीं हो पाता है।

इस थकाऊ अभ्यास के कारण, कई ग्रामीण “विरासत / Varasaat” का विचार छोड़ देते हैं। यहां तक ​​कि अधिकांश ग्रामीणों, आमतौर पर किसानों को बैंकों से ऋण नहीं मिलता है। परिवारों और रिश्तेदारों के बीच विवादों का एक मुख्य कारण यह भी है और अधिकांश ग्रामीणों को भी कानून के मुकदमों का सामना करना पड़ता है, जो कभी-कभी पीढ़ियों के लिए निशान बन जाते हैं।

इन कठिनाइयों को दूर करने के लिए, योगी आदित्यनाथ सरकार ने जमीन और संपत्ति के रिकॉर्ड को ऑनलाइन करने के लिए विरासत अभियान शुरू किया है। ऑनलाइन मोड के माध्यम से लेखपाल लॉगिन की आवश्यकता यूपी उत्तराधिकारी अभियान में है, लेकिन उनके निर्दिष्ट कार्यालयों में नहीं। लेखपाल अब सत्यापन के लिए लोगों के घर आएंगे।

यह भी पढ़ें => [रजिस्ट्रेशन] उत्तर प्रदेश HSRP हाई सिक्योरिटी वाहन नंबर प्लेट

उप्र उत्तराधिकारी अभियान में खतौनी में पंजीकृत नाम प्राप्त करें

Name Registration in Khata Khatauni under UP Uttaradhikari Abhiyan -: नए उत्तराधिकारी अभियान के साथ, ग्रामीणों का किसी भी स्तर पर शोषण नहीं होगा। लोग अब अपने घर बैठे ही जमीन के रिकॉर्ड (खतौनी) में अपना नाम दर्ज करवा सकते हैं। 

सीएम के निर्देश पर की गई व्यवस्था के तहत, लोगों को “विरासत / Varasat के पंजीकरण के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों सुविधाएं मिलेंगी। 

जिन लोगों के पास गांव में जमीन है, लेकिन वे किसी और जगह पर रह रहे हैं, तहसील स्तर पर एक विशेष काउंटर खोला जाएगा जहां वे उसी के लिए आवेदन कर सकते हैं।

उत्तराधिकारियों की स्थिति जानने के लिए लेखपाल प्रक्रिया

Lekhpal Procedure for Verify Successors Track Status -: जबकि प्रदेश के नागरिक स्थिति को ट्रैक कर सकते हैं, लेखपाल गांवों का दौरा करेंगे और मृत लोगों के उत्तराधिकारियों का सत्यापन करेंगे और उन्हें ऑनलाइन आवेदन भरने में सहायता करेंगे।




उत्तर प्रदेश सरकार लोगों को सामुदायिक सुविधा केंद्र यानी सीएफसी (Community Facility Centres / CFCs) से आवेदन करने की सुविधा भी दे रही है। 

इसके अलावा, उन लोगों की सहायता के लिए एक हेल्पलाइन भी शुरू की जा रही है, जिन्हें आवेदन दाखिल करने में किसी प्रकार की कठिनाई का सामना करना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें => [Application] उत्तर प्रदेश में भाग्य लक्ष्मी योजना आवेदन

यूपी राजस्व बोर्ड पोर्टल पर विरासत अभियान की जानकारी अपलोड करना

Uploading Details of Virasat Abhiyan on UP Revenue Board (BOR) Portal -: अभियान के तहत, “विरासत / Virasat” से संबंधित सभी जानकारी उत्तर प्रदेश के राजस्व बोर्ड की वेबसाइट पर भी अपलोड की जाएगी। यूपी वारसैट अभियान के आंकड़े मिलने पर, उत्तराधिकारी अभियान की प्रगति की समीक्षा की जाएगी।

इस 2 महीने की योजना के अंत में, जिला मजिस्ट्रेट, जिला और तहसील स्तर पर, बेतरतीब ढंग से राजस्व गांव के 10% की पहचान करेगा और उपखंड मजिस्ट्रेटों, अतिरिक्त जिले के माध्यम से लेखपाल की रिपोर्ट में दिए गए तथ्यों की मजिस्ट्रेट और अन्य जिला स्तरीय अधिकारी जाँच करेगा।

यूपी विरासत अभियान हेल्पलाइन नंबर / ई-मेल आईडी

Helpline Number & Email Id for UP Viraasat Abhiyan -: यदि आपको इस अभियान से संबधित कोई जानकारी या सहायता चाहिए तो आप विभाग के अधिकारीयों से संपर्क कर सकते हैं। 

  • हेल्पलाइन नंबर :- 0522-2620477
  • ईमेल आईडी :- [email protected]

यदि आपकी समस्या का समाधान उपरोक्त नंबर या ईमेल आईडी के माध्यम से नहीं हो पा रहा है तो कोई बात नहीं। आप सीधा मुख्यमंत्री हेल्पलाइन नंबर 1076 पर भी अपनी समस्या का समाधान प्राप्त कर सकते हैं। 

यह भी पढ़ें => यूपी रोजगार मेला 2021 ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन व नौकरी सूची

 हमारा फेसबुक पेज लाइक करें ✥

उम्मीद है आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी से जरूर लाभ मिलेगा। यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई हो तो कृपया अपने मित्रों तथा परिवारजनों के साथ जरूर शेयर करें।

यदि आपको इस जानकारी से सम्बंधित कोई जानकारी हेतु मदद चाहिए, तो आप हमसे सहायता ले सकते हैं। कृपया अपना प्रश्न नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें। हमारी टीम आपकी पूरी सहायता करेगी। यदि आपको किसी और राज्य या केंद्र सरकार की योजना की जानकारी चाहिए तो कृपया हमें कमेंट बॉक्स में हमसे पूछें।

You may also like...