[MSME Schemes] सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्यम ऋण/लोन योजना 2021 रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन

Udyam Registration | MSME Udyam Registration | Udyam Registration Gov In | MSME Registration Process | Udyog Aadhar Registration | Msme Registration Benefits | Msme Registration Status | Msme Full Form



एमएसएमई (Micro, Small and Medium Enterprises – MSME)
सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के लिए आवश्यक हैं। भारतीय अर्थव्यवस्था का सबसे महत्वपूर्ण तत्व ये सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम हैं। ये भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं। लेकिन, इन उद्यमों के पास उपयुक्त और पर्याप्त तकनीक नहीं है। यही कारण है कि संसाधन हैं जो अन्य महत्वपूर्ण उद्यमों तक पहुंचते हैं। इसलिए इन उद्यमों का समर्थन और सहायता करने की आवश्यकता है।

सरकार ने इन सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों को सहायता और सहायता प्रदान की। सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली सहायता विशिष्ट एमएसएमई योजनाओं (MSME Schemes) के रूप में है। इन योजनाओं के साथ-साथ, छूट के प्रावधान के साथ-साथ परामर्श भी हैं।

एमएसएमई योजनाओं के बारे में


About Micro, Small and Medium Enterprises / MSME Schemes -: सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों की सीमा होती है। सेवा क्षेत्र और उत्पादन क्षेत्र के लिए सीमा भिन्न होती है। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के लिए सीमा नीचे दी गई है:

सेवा क्षेत्र (Service Sector):

  • माइक्रो – विनिर्माण उपकरण में निवेश लगभग 10 लाख रुपये का है 
  • लघु – विनिर्माण उपकरणों में निवेश 10 लाख और दो करोड़ रुपये के दायरे में है
  • मध्यम – विनिर्माण उपकरण में निवेश 2 से 5 करोड़ रुपये तक होता है।

उत्पादन क्षेत्र (Production Sector):

  • माइक्रो – इन्वेस्टमेंट लगभग 25 लाख रुपये का है।
  • लघु – निवेश 25 लाख से 5 करोड़ रुपये की सीमा में है।
  • मध्यम – निवेश 5 लाख से 10 करोड़ रुपये की सीमा में है।

सरकार द्वारा शुरू की गई एमएसएमई योजनाओं की सूची

List Of MSME Schemes Launched By Government -: लोगों के कल्याण के लिए सरकार ने कई योजनाएं शुरू कीं। इन योजनाओं के माध्यम से, विभिन्न क्षेत्रों से बहुत सारे लोग लाभान्वित हुए। इसलिए अगले भाग में, हम एमएसएमई योजनाओं और उनके लाभों की एक सूची दी गई है।

  • महिला उद्यमिता
  • ऊष्मायन
  • उद्योग आधार ज्ञापन
  • गुणवत्ता प्रबंधन मानक और गुणवत्ता प्रौद्योगिकी उपकरण
  • शिकायत निगरानी प्रणाली
  • क्रेडिट लिंक्ड कैपिटल सब्सिडी योजना
  • शून्य दोष शून्य प्रभाव


ये सभी एमएसएमई योजनाएं हैं जहां लोगों को अलग तरह से लाभ हुआ।

महिला उद्यमिता (Women Entrepreneurship):

महिला उद्यमिता एक पहल है, विशेष रूप से महिलाओं के लिए, केवल 14% महिलाएं हैं जो उद्यमी क्षेत्र में मौजूद हैं और बाकी 86% पुरुष हैं। यह उन सभी महिलाओं के लिए एक कदम है, जिनके पास एक स्टार्ट-अप योजना है और एक नई व्यवसाय योजना की नींव रखना चाहती है। सरकार सभी इच्छुक महिलाओं को आर्थिक मदद और सहायता प्रदान करती है।  माल और सेवाओं के वितरण के बारे में उचित परामर्श, पूंजी, तकनीक प्रदान की। यह व्यवसाय की उचित स्थापना के लिए प्रशिक्षण भी प्रदान करता है।


प्रशिक्षण और अन्य सहायता प्रदान करने का मुख्य उद्देश्य महिला उद्यमियों को सशक्त बनाना है। महिलाओं को हर साल उत्कृष्ट महिला उद्यमी के रूप में पुरस्कार से सम्मानित किया जाता है ताकि अधिक महिलाओं को व्यवसाय क्षेत्र में कदम रखने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके।

इनक्यूबेशन स्कीम (Incubation):


इनक्यूबेशन स्कीम इनोवेटर्स द्वारा नए डिजाइन, उत्पादों और विचारों के प्रचार का काम करती है। इनक्यूबेशन योजना ने नवप्रवर्तकों के नए युग पर महत्वपूर्ण रूप से ध्यान केंद्रित किया है। इनक्यूबेशन स्कीम के तहत ऐसे इनोवेटर जिनके पास कोई नया आईडिया या प्रोडक्ट या डिजाइन है उनको सहायता प्रदान की जाती है। सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमियों को उनके नवीन विचारों के आधार पर सहायता प्रदान की जाती है। इसलिए, जो उद्यमीय नवीन उत्पादों, डिजाइनों या विचारों के साथ आते हैं, वे सरकार की इनक्यूबेशन एमएसएमई योजनाओं के तहत पात्र हैं।

इनोवेटर्स ने अपने उत्पाद, डिजाइन या विचार के उचित कार्यान्वयन में सहायता की है। सरकार वित्तीय सहायता भी प्रदान करती है। सरकार परियोजना की कुल लागत का लगभग 75% से 80% तक सहायता करती है। इनक्यूबेशन स्कीम के तहत सरकार द्वारा समर्थित अधिकतम धनराशि 8 लाख रुपये तक है। यह सभी नवोन्मेषकों के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण सहायता है। उनके सरल नवाचार अर्थात उत्पाद, डिज़ाइन और विचार, सरकार द्वारा आर्थिक और तकनिकी रूप से सहायता प्राप्त हैं।

उद्योग आधार मेमोरेंडम (Udyog Aadhaar Memorandum):


उद्योग आधार मेमोरेंडम योजना के तहत लाभार्थी होने के लिए, आवेदक के पास आधार कार्ड होना जरुरी है। आधार कार्ड आजकल महत्वपूर्ण दस्तावेजों में से एक है। 12 अंकों की विशिष्ट पहचान संख्या आधार कार्डधारक के बैंक खातों से जुड़ी होती है। फिर परियोजनाओं की लागत, साथ ही सरकार से अन्य वित्तीय सहायता, उद्यमियों को आधार कार्ड के माध्यम से दी जाती है।

उद्योग आधार मेमोरेंडम योजना के लाभ:

  • आसानी से ऋण प्राप्ति
  • सब्सिडी का आसान लाभ

इच्छुक आवेदक ऑनलाइन या ऑफलाइन मोड के माध्यम से पंजीकरण कर सकते हैं। उद्योग आधार ज्ञापन की पंजीकरण प्रक्रिया नि: शुल्क और आसान है। पंजीकरण पहले से विपरीत, जब भरने के लिए कई रूपों की आवश्यकता होती है, दो फॉर्म भरकर पूरा करता है।

  • उद्यमी मेमोरेंडम – 1
  • उद्यमी मेमोरेंडम – 2

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों की श्रेणी में पंजीकृत कुल 2 लाख छोटे और मध्यम व्यवसाय हैं। उद्योग आधार ज्ञापन योजना सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों को उनके काम के साथ अधिक संगठित होने में मदद करती है। सूक्ष्म, लघु और मध्यम क्षेत्र के उद्यमी जो अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति श्रेणियों से संबंधित हैं, उन्हें भी उद्योग आधार योजना के तहत समान रूप से लाभ दिया जाता है। उन्हें एक अन्य सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमियों के बराबर वित्तीय सहायता भी मिलती है।

गुणवत्ता प्रबंधन मानक और गुणवत्ता प्रौद्योगिकी उपकरण (Quality Management Standards and Quality Technology Tools):


गुणवत्ता प्रबंधन मानकों की योजनाओं के तहत, उद्यमियों ने आधुनिक तकनीक के कार्यान्वयन,समझ और गुणवत्ता के मानकों के साथ सहायता की। सरकार उद्यमियों का मार्गदर्शन करने के लिए विभिन्न गतिविधियों और अभियानों का संचालन करती है, जिनका पालन करने के लिए आवश्यक गुणवत्ता मानकों के साथ मार्गदर्शन करती है।

यदि गुणवत्ता के मानकों को पूरा नहीं किया जाता है, तो उत्पाद, डिजाइन या विचार अस्वीकार हो सकता है। सरकार विभिन्न आधुनिक तकनीकों के बारे में उद्यमियों को जागरूक करने के लिए इन अभियानों का आयोजन भी करती है। ये उन्नत प्रौद्योगिकियां सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के लिए बहुत महत्वपूर्ण साबित हो सकता हैं।

शिकायत निगरानी प्रणाली (Grievance Monitoring System):


इस योजना के तहत, व्यवसायी अपनी शिकायतें दर्ज करा सकते हैं। उन्हें विभिन्न मुद्दों के बारे में अपनी शिकायतें दर्ज करने का मौका आसानी से मिल सकता है। साथ ही, वे शिकायत की स्थिति की जांच कर सकते हैं। यदि समाधान उचित नहीं है तो शिकायत निगरानी प्रणाली भी मदद करती है। यदि शिकायतकर्ता समाधान से संतुष्ट नहीं है, तो वे सीधे अधिकारियों से मदद ले सकते हैं।

उद्यमियों की शिकायतों को देखने के लिए एक प्रणाली होना आवश्यक है। यह उद्यमियों और सरकार के बीच संचार सुनिश्चित करता है। साथ ही, उद्यमियों की शिकायतों और मांगों को संबोधित करने से इन उद्यमियों द्वारा स्वस्थ और कुशल काम करने को बढ़ावा मिलेगा। यह महत्वपूर्ण भी है क्योंकि सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग भारतीय अर्थव्यवस्था की रीढ़ हैं।

क्रेडिट लिंक्ड कैपिटल सब्सिडी योजना (Credit Linked Capital Subsidy Scheme):


कई या शायद अधिकांश उद्यमी प्रौद्योगिकी के पुराने साधनों का उपयोग करते हैं, जो अब ज्यादातर अप्रचलित हो गए हैं। ये प्रौद्योगिकियां अशक्षम और अप्रभावी थीं, जिसके परिणामस्वरूप सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों में गिरावट आई। आगे माइक्रो, छोटे और मध्यम उद्यमों को देने के लिए शुरू की गई क्रेडिट लिंक्ड कैपिटल सब्सिडी योजना शुरू होती है। क्रेडिट लिंक्ड कैपिटल सब्सिडी योजना के तहत, व्यवसाय के मालिक या उद्यमी नवीनतम और आधुनिक तकनीकों के साथ प्रस्ताव देते हैं।

यह उन्हें अपने उत्पादन को बढ़ाने और अपने व्यवसाय को विकसित करने में मदद करता है। उद्यमियों ने अपने व्यापार के लिए वित्तीय सहायता के रूप में पूंजी सब्सिडी भी प्रदान की। उद्यमी अपने उपकरणों के उन्नयन के लिए वित्तीय सहायता का प्रभावी ढंग से उपयोग कर सकते हैं, जो अंततः कंपनी की उत्पादकता को बढ़ाएगा। इसलिए सरकार से सहायता के परिणामस्वरूप बाजार बढ़ेगा। क्रेडिट लिंक्ड कैपिटल सब्सिडी स्कीम के तहत कैपिटल सब्सिडी योजना प्राप्त करने के लिए सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम सीधे अपनी संबंधित बैंक शाखा तक पहुंच सकते हैं।

शून्य दोष शून्य प्रभाव (Zero Defect Zero Effect):


जब कुछ कारकों के कारण भारत से निर्यात किए गए माल का निर्यात किया जाता है, तो कभी-कभी उन्हें अस्वीकार कर दिया जाता है, या कुछ मामलों में, उत्पादों को भारत वापस भेज दिया जाता है। इन सामानों की अस्वीकृति अनुचित हैंडलिंग या विनिर्माण या कुछ अन्य दोषों के कारण हो सकती है। विनिर्मित उत्पादों को निर्यात के योग्य होने के लिए, उन्हें विशिष्ट दिशानिर्देशों का पालन करना होगा। ये दिशानिर्देश या मानक निर्यात प्रक्रियाओं के लिए आवश्यक हैं।

स्कीम का जीरो डिफेक्ट जीरो इफेक्ट मॉडल उसी अवधारणा से संबंधित है। इसके तहत, यदि निर्मित माल प्रमाणित दिशानिर्देशों का पालन नहीं करता है, तो उन्हें अस्वीकार कर दिया जाता है और वापस भेज दिया जाता है। इसे भारत की केंद्र सरकार ने लॉन्च किया। जीरो डिफेक्ट जीरो इफेक्ट स्कीम के तहत, यदि कोई निर्यात किया गया माल अस्वीकृत हो जाता है और अधिकारियों द्वारा वापस पोस्ट किया जाता है, तो रियायत दी जाएगी। जीरो डिफेक्ट जीरो इफेक्ट स्कीम के अनुसार अधिकारियों को कुछ राशि का भुगतान करना होता है।

सरकार द्वारा शुरू की गई एमएसएमई योजनाओं का निष्कर्ष

Conclusion of Micro, Small and Medium Enterprises / MSME Schemes -: सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम संतुलित भारतीय अर्थव्यवस्था के लिए महत्वपूर्ण हैं। अस्तित्व के दबाव को दूर करने और बाजार में अपनी स्थिति बनाए रखने के लिए, सरकार ने विशिष्ट प्रकार की योजनाएं शुरू की हैं।

सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यमों के उत्थान के लिए कई एमएसएमई योजनाएं हैं। योजनाएं उनके बेहतर कामकाज के लिए छूट और परामर्श प्रदान करती हैं। जैसे महिला उद्यमिता, क्रेडिट लिंक्ड कैपिटल सब्सिडी योजना, उद्योग आधार ज्ञापन, शून्य दोष शून्य प्रभाव, शिकायत निगरानी प्रणाली, गुणवत्ता प्रबंधन मानक और गुणवत्ता प्रौद्योगिकी उपकरण, ऊष्मायन आदि।

सरकार द्वारा शुरू की गई ये योजनाएं भारत में सूक्ष्म लघु और मध्यम उद्यमों की बेहतरी पर केंद्रित हैं। इन योजनाओं के साथ, कई अन्य योजनाएं और योजनाएं हैं। व्यवसाय के स्वामी या उद्यमी इन योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं।

इन सभी योजनाओं से जुडी अधिक जानकारी यहाँ उपलब्ध है

हमारा फेसबुक पेज लाइक करें

आपका समर्थन

उम्मीद है आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी से जरूर लाभ मिलेगा। यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई हो तो कृपया अपने मित्रों तथा परिवारजनों के साथ जरूर शेयर करें।

यदि आपको इस जानकारी से सम्बंधित कोई जानकारी हेतु मदद चाहिए, तो आप हमसे सहायता ले सकते हैं। कृपया अपना प्रश्न नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें। हमारी टीम आपकी पूरी सहायता करेगी। यदि आपको किसी और राज्य या केंद्र सरकार की योजना की जानकारी चाहिए तो कृपया हमें कमेंट बॉक्स में हमसे पूछें।

इन्हें भी पढ़ें —:

You may also like...