Home Top Ad

आत्मनिर्भर भारत अभियान क्या है: Rs 20 लाख करोड़ पैकेज से किसको होगा फायदा

Share:
What is Atmanirbhar Bharat Abhiyan | What is Self-Reliant India Campaign | आत्मनिर्भर भारत अभियान क्या है | PM Modi Rs 20 Lakh Crore Relief Package | how Atmanirbhar Bharat Abhiyan Would Help India | PM Modi Atmanirbhar Bharat Abhiyan Package | आत्मनिर्भर भारत अभियान के फायदे | स्वदेशी भारत अभियान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की घोषणा की। यह आर्थिक पैकेज भारत के सकल घरेलू उत्पाद यानी जीडीपी (GDP) का 10% है। पीएम ने कहा कि यह आर्थिक पैकेज देश के कुटीर उद्योग, गृह उद्योग, लघु उद्योग, एमएसएमई के लिए है, जो करोड़ों लोगों की आजीविका का स्रोत है, जो आत्मनिर्भर भारत के लिए हमारे संकल्प का मजबूत आधार है।


उन्होंने कहा, "मैं आज एक विशेष आर्थिक पैकेज की घोषणा करता हूं। यह "आत्मनिर्भर भारत अभियान (Atmanirbhar Bharat Abhiyan or Self-Reliant India Campaign)" में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगा। सरकार द्वारा कोविड महामारी के समय पर पर की गई घोषणाएं, आरबीआई (RBI) के निर्णय और आज के पैकेज के 20 लाख करोड़ रुपए के योग के बराबर हैं। यह है भारत की जीडीपी का 10% है। उन्होंने जोर दिया कि इस विशेष आर्थिक पैकेज में भूमि, श्रम, तरलता और कानूनों में विकास होगा।

पीएम ने अपने संबोधन में उल्लेख किया कि सरकार द्वारा हाल ही में कोरोना संकट से संबंधित आर्थिक घोषणाएं, जो रिजर्व बैंक के निर्णय थे और आज जो आर्थिक पैकेज की घोषणा की जा रही है, उसके अंतर्गत 20 लाख करोड़ों रूपये का राहत पैकेज जारी किया जा रहा है। 


आत्मनिर्भर भारत अभियान क्या है?

Atmanirbhar Bharat Abhiyan or Self-Reliant India Campaign

What is Atmanirbhar Bharat Abhiyan or Self-Reliant India Campaign -: पीएम मोदी ने राष्ट्र के लिए अपने पांचवें संबोधन में कुछ बड़े आर्थिक सुधारों की घोषणा की। पीएम मोदी ने "आत्मनिर्भर भारत अभियान (Atmanirbhar Bharat Abhiyan or Self-Reliant India Campaign)" के तहत कोरोनवायरस संकट से लड़ने के लिए 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज की घोषणा की। 

20 लाख करोड़ रुपये के पैकेज में प्रमुख क्षेत्रों और रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) द्वारा उपायों पर सरकार की हालिया घोषणाएँ शामिल हैं। हालांकि यूनियन एफएम निर्मला सीतारमण द्वारा आगामी दिनों में विवरण का अनावरण किया जाएगा, इंटरनेट का मानना है कि यह भारत द्वारा चीन की अर्थव्यवस्था को अपंग करने के लिए एक मौन हमला है।


आत्मनिर्भर भारत अभियान (Atmanirbhar Bharat Abhiyan or Self-Reliant India Campaign) का लक्ष्य भारत को आत्मनिर्भर बनाना है, और इसके लिए प्रमुख चालकों के रूप में अर्थव्यवस्था और बुनियादी ढाँचे की पहचान करना है। बेहतर तरीके से समझने के लिए महात्मा गांधी के "स्वदेशी आंदोलन" का उदाहरण ले सकते हैं। यह एक आर्थिक रणनीति थी, जिसका उद्देश्य ब्रिटिश साम्राज्य को सत्ता से हटाना और स्वदेशी के सिद्धांतों का पालन करके भारत में आर्थिक स्थिति में सुधार करना था, यानी भारत के उत्पादों का निर्माण और विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार करना।

पीएम मोदी के अनुसार देश को आत्मनिर्भर बनाने का एकमात्र तरीका 21वीं सदी में फिर से स्वदेशी अपनाना है। अपने संबोधन में उन्होंने कहा, "भारत की आत्मनिर्भरता पांच स्तंभों- अर्थव्यवस्था, बुनियादी ढाँचे, प्रौद्योगिकी-संचालित प्रणाली, जीवंत जनसांख्यिकी और माँग पर आधारित होगी। जब भारत आत्मनिर्भरता की बात करते हैं, तो हम केंद्रित प्रणा लीस्वयं की वकालत नहीं करते हैं। भारत की आत्मनिर्भरता में, पूरे विश्व की खुशी, सहयोग और शांति भी शामिल है।"


मध्यम वर्ग के लिए आर्थिक पैकेज:

Central Government Economic Package for Middle-Class Families in India -: मोदी जी ने आगे कहा "यह आर्थिक पैकेज देश के उस श्रमिक और देश के उस किसान के लिए है जो हर मौसम में देशवासियों के लिए हर परिस्थिति में दिन-रात मेहनत कर रहा है। यह आर्थिक पैकेज हमारे देश के मध्यम वर्ग के लिए है जो भुगतान करता है। ईमानदारी से और देश के विकास में योगदान देता है।"

दैनिक वेतन भोगी मजदूरों और श्रमिकों के बारे में बात करते हुए, पीएम ने कहा, "सड़कों पर काम करने वाले, दैनिक वेतन भोगी कर्मचारी, प्रवासी मजदूर, मछुआरे, आदि हमारे भाई-बहनों को इस से लाभ होगा तथा उनके लिए प्रोत्साहन हेतु विशेष प्रावधान हैं। हमारे लिए यह समय है कि हम उनके लिए अपना काम करें।"


स्थानीय आपूर्ति श्रृंखलाओं व स्वदेशी ब्रांड को मजबूत करें:

Strengthen Local Supply Chains for Better Growth of India-: उन्होंने आगे उल्लेख किया कि इस संकट ने राष्ट्र को स्थानीय आपूर्ति श्रृंखला में इन लोगों के महत्व का एहसास कराया है। पीएम ने आगे कहा "समय ने हमें सिखाया है कि हमें स्थानीय व्यापारियों, शिल्पकारों और ब्रांड के महत्व का एहसास करना है। केवल जब किसी देश के लोग स्थानीय उत्पादों को महसूस करते हैं और बढ़ावा देते हैं, तभी उन्हें वैश्विक ब्रांड के रूप में स्वीकार किया जाता है।"

स्थानीय ब्रांडों या स्वदेशी के लिए भारतीयों को मुखर होना चाहिए:

Every Indian Should Become Vocal for Local Brands -: पीएम ने भारतीयों से स्थानीय ब्रांडों के लिए मुखर होने का भी आग्रह किया। उन्होंने कहा, "समय ने हमें सिखाया है कि हमें "लोकल" को अपने जीवन का मंत्र बनाना चाहिए। आज जो वैश्विक ब्रांड हैं, वे कभी स्थानीय भी थे, लेकिन जब वहां के लोगों ने उनका समर्थन करना शुरू किया तो वे वैश्विक हो गए। यही वजह है कि आज से हर भारतीय हमारे स्थानीय ब्रांडों के लिए मुखर होना चाहिए।"


अत्मनिर्भर भारत अभियान

Atmanirbhar Bharat Abhiyan or Self-Reliant India Campaign -: पीएम ने आज अत्मनिर्भर भारत अभियान की घोषणा की। उन्होंने कहा कि जिन पांच स्तंभों पर भारत आत्मनिर्भर बनने के लिए खड़ा होगा, वे हैं - अर्थव्यवस्था, आधारभूत संरचना, प्रणाली, जनसांख्यिकी और मांग। हमारे पास संसाधनों के साथ-साथ संसाधन भी हैं। हम प्रौद्योगिकियों को और अधिक अभिनव, हमारी आपूर्ति श्रृंखला को और अधिक कुशल बनाएंगे।

पीएम मोदी ने कहा "हमने इस तरह के संकट के बारे में पहले कभी नहीं देखा या सुना है। यह निश्चित रूप से मानव जाति के लिए अकल्पनीय है। लेकिन मानवता इस वायरस से हार नहीं मानेगी। हमें न केवल अपनी रक्षा करनी होगी बल्कि आगे बढ़ना होगा।"

इसके अलावा, प्रधानमंत्री ने कहा, "संकट भारत के लिए एक महत्वपूर्ण अवसर लाया है। हम इस लड़ाई में एक महत्वपूर्ण मोड़ पर हैं। एक आत्मनिर्भर भारत ही आगे बढ़ने का एकमात्र रास्ता है। हमें कोविंद के बाद भारत को उत्कृष्ट बनाने की आवश्यकता है।"

जीडीपी के प्रतिशत के रूप में राजकोषीय प्रोत्साहन:

Fiscal stimulus as percentage of GDP -: यह उल्लेखनीय है कि कई देशों ने कोरोना वायरस महामारी ने सभी देशों की अर्थव्यवस्था को लुढ़का दिया है। जापान ने जीडीपी के 20% मूल्य के प्रोत्साहन पैकेज को जारी किया है, मलेशिया ने अपने सकल घरेलू उत्पाद के 19.1% की घोषणा की है। ऑस्ट्रेलिया और सिंगापुर की राजकोषीय प्रोत्साहन जीडीपी का 16.2% और 12% है। अमेरिका ने अपने सकल घरेलू उत्पाद के 11% के पैकेज की घोषणा की और अब भारत ने अपने सकल घरेलू उत्पाद के 10% के पैकेज की घोषणा की है।



चीन भारत से कितना कमाता है और क्या होगा उसका नुकसान?

How Much China Earns From India and How Atmanirbhar Bharat Abhiyan or Self-Reliant India Campaign will Effect China? -: चीनी द्वारा बनाया गया सामान पूरे भारत में है। चाहे वह चीन निर्मित मोबाइल फोन, चीनी उद्यम पूंजी निवेश या सर्वव्यापी सस्ते खिलौने हों, उनकी उपस्थिति को नकारा नहीं जा सकता। रिपोर्टों के अनुसार, भारत से चीनी का आयात 16.4 बिलियन डॉलर या उसके कुल आयात का 0.8% था, और 2014 में भारत के कुल निर्यात का 4.2% था। इसलिए यदि भारत चीनी आयात पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है, तो निम्नलिखित सामान प्रभावित होंगे।
  • इलेक्ट्रॉनिक उपकरण: 16 बिलियन डॉलर
  • मशीनें, इंजन, पंप: 9.8 बिलियन डॉलर
  • कार्बनिक रसायन: 6.3 बिलियन डॉलर
  • उर्वरक: 2.7 बिलियन डॉलर
  • लोहा और इस्पात: 2.3 बिलियन डॉलर
  • प्लास्टिक: 1.7 बिलियन डॉलर
  • लोहा या इस्पात उत्पाद: 1.4 बिलियन डॉलर
  • रत्न, कीमती धातु, सिक्के: 1.3 बिलियन डॉलर
  • जहाज, नाव: 1.3 बिलियन डॉलर

इस तरह यदि भारत ने पूर्ण स्वदेशी अपना लिया तो चीन के साथ-साथ बहुत से देशों को भारी नुकसान उठाना पड़ सकता है लेकिन इससे एक बात तो तय है कि यह देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत कर देगा और सभी के लिए रोजगार के अवसरों को बढ़ा देगा।




आपका समर्थन

उम्मीद है आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी से जरूर लाभ मिलेगा। यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई हो तो कृपया अपने मित्रों तथा परिवारजनों के साथ जरूर शेयर करें।

यदि आपको इस जानकारी से सम्बंधित कोई जानकारी हेतु मदद चाहिए, तो आप हमसे सहायता ले सकते हैं। कृपया अपना प्रश्न नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें। हमारी टीम आपकी पूरी सहायता करेगी। यदि आपको किसी और राज्य या केंद्र सरकार की योजना की जानकारी चाहिए तो कृपया हमें कमेंट बॉक्स में हमसे पूछें।

4 comments:

  1. Replies
    1. Thanks Mam, Please keep coming on our portal www.hindireaders.in.

      Delete
  2. catal feed manufacring ka porjact suru karna chata hu,pl loan ki leay porss bataoh

    ReplyDelete
  3. bilkul sir aap msme loan ya udhyog mitra loan scheme ke under loan ke liye apply kar sakte hain.

    is link ko copy paste kare or padhen poori jankari >> https://www.hindireaders.in/2019/09/udyamimitra-in-sidbi-business-loan-apply-interest-rate.html

    ReplyDelete

आपका हमारी वेबसाइट Hindireaders.in पर कमेंट करने के लिए ध्यन्यवाद। हमारी टीम आप से जल्द ही संपर्क करेगी तथा आपकी समस्या का हल करेगी। हमारी वेबसाइट Hindireaders.in पर आते रहें।