Home Top Ad

बिहार कृषि इनपुट अनुदान/सब्सिडी योजना आवेदन व स्टेटस चेक करें

Share:
dbtagriculture.bihar.gov.in Status Check Online | dbt agriculture.bihar.gov.in Registration | www dbt agriculture bihar nic | dbt agriculture. bihar. government. in | dbt agriculture bihar govt | Agriculture Department | Krishi Vibhag | dbt bihar

कृषि इनपुट सब्सिडी योजना dbtagriculture.bihar.gov.in: बिहार राज्य का कृषि विभाग मौसम के कारण प्रभावित फसलों के लिए कृषि इनपुट सब्सिडी योजनाओं के लिए ऑनलाइन आवेदन शुरू किये हैं। राज्य के प्रभावित किसान राज्य के कृषि पोर्टल में डीबीटी के माध्यम से सब्सिडी के लिए आवेदन कर सकते हैं। आवेदन प्रक्रिया कृषि इनपुट सब्सिडी योजना (Krishi Input Anudan Yojana or Krishi Input Subsidy Scheme) हेतु ऑनलाइन आवेदन शरू हो चुके हैं।


किसान केवल ऑनलाइन मोड में आवेदन कर सकते हैं क्योंकि कोई अन्य मोड उपलब्ध नहीं है। हमने अपने इस लेख में आवेदन जमा करने के लिए इस पेज पर एक सीधा लिंक भी दिया है। इसलिए, आवेदक आवेदन भरने के लिए दिए गए लिंक पर भी जा सकते हैं और हमारे द्वारा दी गई जानकारी से लाभ ले सकते हैं।

कृषि इनपुट सब्सिडी योजना के बारे में

Krishi Input Anudan Yojana Apply Check Status

About Krishi Input Anudan Yojana or Krishi Input Subsidy Scheme -: कृषि इनपुट सब्सिडी योजना किसानों के लिए है और राज्य सरकार की आवश्यकताओं और आदेशों के अनुसार देश के पूरे राज्यों में लागू है। यह योजना मुख्य रूप से राज्य सरकारों की देखरेख में शुरू की गई है। इस योजना के तहत, राज्य सरकार कृषि के विकास और और प्रबंधन के लिए किसानों को सब्सिडी प्रदान करती है। इसमें कृषि उपकरण, बीज, सिंचाई सुविधा, परिवहन, आदि की खरीद के लिए सब्सिडी शामिल हो सकती है।

इस लेख में, हमने बिहार राज्य के लिए कृषि इनपुट सब्सिडी योजना (Krishi Input Anudan Yojana or Krishi Input Subsidy Scheme) विवरण प्रदान किया है। जानकारी में मुख्य रूप से योजना का विवरण, योजना का लाभ, पात्रता मानदंड, महत्वपूर्ण तिथियां, किसानों का वर्गीकरण, आवेदन प्रक्रिया, आवश्यक दस्तावेज और अन्य संबंधित विवरण शामिल हैं।

  • योजना का नाम - कृषि इनपुट सब्सिडी योजना
  • विभाग का नाम - कृषि विभाग, बिहार सरकार
  • सब्सिडी प्रकार - मौसम के कारन प्रभावित खरीफ के लिए
  • मान्य भूमि - 2 हेक्टेयर (494 डेसिमील) की भूमि के लिए मान्य
  • आवेदन का तरीका - ऑनलाइन
  • आधिकारिक वेबसाइट - krishi.bih.nic.in
  • बिहार डीबीटी पोर्टल - dbtagriculture.bihar.gov.in
  • पोर्टल पर किसान पंजीकरण - यहाँ क्लिक करें

कृषि इनपुट सब्सिडी योजना की मुख्य विशेषताएं:
  • अधिकतम 2 हेक्टेयर भूमि (प्रति किसान) के लिए किसानों को इस योजना के तहत सब्सिडी मिलेगी।
  • केवल पंजीकृत किसान ही इस योजना का लाभ प्राप्त कर सकते हैं। इसका अर्थ है, आवेदकों को राज्य सरकार के डीबीटी पोर्टल में अपना पंजीकरण कराना होगा।
  • सब्सिडी की राशि सीधे लाभार्थी किसान के बैंक खाते में हस्तांतरित की जाएगी।
  • सब्सिडी राशि केवल उन्हीं खातों में हस्तांतरित की जाएगी जो आधार संख्या से जुड़े हैं।


कृषि इनपुट सब्सिडी योजना राशि:
  • कम या अधिक वर्षा के कारण फसल के नुकसान से प्रभावित किसानों को सब्सिडी का भुगतान 6800 रुपये प्रति हेक्टेयर की दर से किया जाएगा।
  • असिंचित फसल भूमि के लिए प्रति हेक्टेयर 6800 रुपये का भुगतान किया जाएगा।
  • सिंचित फसल भूमि के लिए प्रति हेक्टेयर 13500 रुपये का भुगतान किया जाएगा।
  • बारहमासी फसलों के लिए, प्रति हेक्टेयर 18000 रुपये का भुगतान किया जाएगा।

इस योजना के तहत दी जाने वाली सब्सिडी की राशि के बारे में अधिक जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

कृषि इनपुट सब्सिडी योजना के लिए आवेदन कैसे करें?

How to Apply Online for Krishi Input Subsidy Scheme -: अगर आप भी इस योजना के अंतर्गत अपनी फसल हेतु सब्सिडी प्राप्त करना चाहते हैं तो कृपया नीचे दी गई प्रक्रिया का अनुसरण कर अपना आवेदन पत्र विभाग में जमा करें।

आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं:

एप्लिकेशन लिंक पर क्लिक करें:
  • होमपेज पर, आवेदकों को "ऑनलाइन आवेदन करें (Apply Online)" लिंक पर क्लिक करना होगा।

प्रासंगिक विकल्प का चयन करें:
  • विभिन्न विकल्पों की एक ड्रॉपडाउन सूची दिखाई देगी। आवेदकों को "कृषि इनपुट अनुदान / Krishi Input Anudan" का चयन करना होगा।

पंजीकरण संख्या दर्ज करें:
  • इनपुट सब्सिडी विकल्प का चयन करने पर, आवेदकों को एक नए पृष्ठ पर भेज दिया जाएगा। इस पृष्ठ पर, उन्हें अपने तेरह अंकों का पंजीकरण नंबर दर्ज करना होगा। प्रदान किए गए बॉक्स में और "खोज (Search)" बटन पर क्लिक करना होगा। आगे बढ़ने से पहले, उन्हें एक ही पृष्ठ पर दिए गए सभी महत्वपूर्ण निर्देशों को पढ़ना होगा।


आवेदन विवरण भरें:
  • अंत में, आवेदन फॉर्म दिखाई देगा। यह किसान के बारे में विभिन्न विवरणों को इंगित करेगा जैसे कि नाम, आयु, पता, आधार संख्या, पंचायत, किसान की श्रेणी, डीओबी, पिता का नाम, आदि।

पूरा आवेदन पत्र भाग 2:
  • फार्म के दूसरे भाग में, किसानों को अपनी भूमि की जानकारी भरना आवश्यक है जैसे कि भूमि का क्षेत्रफल (देसिमील में और अधिकतम 2 हेक्टेयर होना चाहिए), किसान का प्रकार, और फसल के नुकसान का कारण। फार्म के तीसरे भाग में, किसानों को उपलब्ध कराई गई जगह में खेती योग्य भूमि का विवरण भरना होगा। उसके बाद उन्हें घोषणा भाग भरना होगा और “ओटीपी” बटन पर क्लिक करना होगा।

ओटीपी और विवरण दर्ज करें:
  • ओटीपी बटन पर क्लिक करने पर, रजिस्टर्ड नंबर पर एक यूनिक कोड भेजा जाएगा। किसान और उन्हें उसी का सत्यापन करना होगा। किसानों को अब स्व-घोषणा पत्र का चयन करना होगा और यह जांचना होगा कि उन्होंने सभी आवश्यक दस्तावेज अपलोड किए हैं या नहीं।

आवेदन जमा करें:
  • एक बार किसान ने सभी आवश्यक जानकारी भर देता है, तो वे आवेदन पत्र जमा कर सकते हैं। अंतिम सबमिशन के बाद, एप्लिकेशन नंबर पंजीकृत मोबाइल नंबर सभी आवेदकों को पर एसएमएस के रूप में भेजा जाएगा। उन्हें इस संख्या को सुरक्षित रखना होगा और उन्हें भविष्य के संदर्भों के लिए आवेदन पत्र को प्रिंट करना होगा।

आवेदनों के सफल जमा करने पर, इन सभी आवेदनों को आवेदन प्रक्रिया के अंतिम के बाद कृषि समन्वयक को भेज दिया जाएगा। कृषि समन्वयक 20 दिनों के भीतर विवरणों को सत्यापित करेगा और या तो कारण के साथ आवेदन को अस्वीकार कर देगा या इसे स्वीकार करेगा। स्वीकृत आवेदनों को संबंधित कृषि अधिकारी को भेज दिया जाएगा। कृषि समन्वयक प्रभावित भूमि के साथ किसान की तस्वीर लेगा और सत्यापन के बाद उसे अपलोड करेगा।

आवेदन से संबंधित महत्वपूर्ण बिंदु:

Important Key Points Before Applying Krishi Input Anudan Yojana or Krishi Input Subsidy Scheme -: इस योजना के लिए किसानों को श्रेणियों में वर्गीकृत किया गया है। किसानों के पास अपनी ज़मीन, वास्तविक खेती और ज़मीन के मालिक और वास्तविक किसान हैं।
  • एक किसान जिसके पास खुद की जमीन होनी चाहिए - ऐसे किसानों को आवेदन पत्र में निम्नलिखित जानकारी भरनी होती है- किसान पुलिस थाना नंबर, खाता संख्या, खसरा नंबर,दो अन्य किसानों का नाम। उन्हें भूमि के प्रमाण के रूप में एलपीजी रसीद / भूमि रसीद / जमाबंदी / बिक्री विलेख आदि जैसे दस्तावेज भी प्रस्तुत करने होंगे।
  • वास्तविक खेती करने वाले - ऐसे किसानों को दिए गए विवरणों को भरना होगा- किसान पुलिस स्टेशन नंबर, खाता संख्या, खेसरा नंबर, सूखे के कारण नुकसान का विवरण, नाम, हस्ताक्षर और दो अन्य किसानों के सत्यापित दस्तावेज। उन्हें स्व-घोषणा पत्र प्रस्तुत करना होगा।
  • भूस्वामी किसान और वास्तविक किसान - इन किसानों को निम्नलिखित विवरण प्रदान करने की आवश्यकता है- किसान पुलिस स्टेशन नंबर, खाता संख्या, खेसरा नंबर, सूखे से प्रभावित भूमि का विवरण, दो किसानों के नाम और अन्य संबंधित विवरण। इन किसानों को जमीन के कागजात के साथ-साथ स्व-घोषणा पत्र भी प्रस्तुत करना आवश्यक है।




कृषि इनपुट सब्सिडी योजना आवेदन की स्थिति की जांच कैसे करें:

How to check the Krishi Input Subsidy Scheme Application Status -: आवेदन को सफलतापूर्वक जमा करने के बाद, किसान आवेदन की स्थिति को भी ट्रैक कर सकते हैं। उसके लिए, उन्हें नीचे दिए गए सरल चरणों का पालन करना होगा-
  • बिहार के आधिकारिक डीबीटी कृषि पोर्टल यानी https://dbtagriculture.bihar.gov.in/ पर जाएं।
  • वेबसाइट के होमपेज पर दिए गए “एप्लीकेशन स्टेटस (Application Status)” लिंक पर क्लिक करें।
  • कृषि इनपुट सब्सिडी योजना लिंक का चयन करें।
  • मान्य एप्लिकेशन नंबर दर्ज करें और सबमिट करने के लिए आगे बढ़ें।
  • अंत में, आवेदन की स्थिति दिखाई देगी।
  • हालाँकि, किसान अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर पर भी एसएमएस प्राप्त करेंगे।

योजना हेतु अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Frequently Asked Question (FAQ) for Krishi Input Anudan Yojana or Krishi Input Subsidy Scheme -: यदि आप भी कृषि इनपुट सब्सिडी योजना कोई प्रश्न पूछना चाहते हैं तो नीचे दी गई तालिका पढ़ सकते हैं।

मैं इस योजना के लिए कैसे आवेदन कर सकता हूं?
आप इस योजना के लिए विभिन्न तरीकों से आवेदन कर सकते हैं। इसमें शामिल है-
  • अपने निजी लैपटॉप, डेस्कटॉप या मोबाइल का उपयोग करके डीबीटी कृषि, बिहार की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं। या
  • आप अपने नजदीकी सीएससी या वसुधा केंद्र या भी जा सकते हैं। या 
  • आप सम्बंधित किसान भवन से एक आवेदन प्रस्तुत कर सकते हैं या
  • आप इसे अपनी सुविधानुसार किसी भी साइबर कैफे से भर सकते हैं।

मैं एक पंजीकृत किसान नहीं हूँ; मैं खुद को डीबीटी पोर्टल में कैसे पंजीकृत कर सकता हूं?
आप डीबीटी कृषि पोर्टल पर जाकर या निकटतम सीएससी, वसुधा केन्द्र या ई-किसान भवन पर जाकर स्वयं को पंजीकृत कर सकते हैं। जो लोग पहले से ही पोर्टल के साथ पंजीकृत हैं, उन्हें फिर से पंजीकरण करने की आवश्यकता नहीं है।

आवेदन पत्र में दशमलव में मेरी भूमि का विवरण कैसे भर सकता है?
आप दिए गए तरीके का उपयोग करके दशमलव में अपने भूमि क्षेत्र की गणना कर सकते हैं-
  • 1 हेक्टेयर = 247 डेसिमील

मुझे आवेदन प्रक्रिया का अपडेट कैसे मिलेगा?
  • आवेदन से संबंधित सभी अपडेट जैसे कि स्थिति को अस्वीकार, स्वीकृत स्थिति पंजीकृत मोबाइल नंबर पर भेजी जाएगी।

क्या कोई आवेदन शुल्क या प्रसंस्करण शुल्क लागू है?
किसानों को नि: शुल्क किसान भवन पर जाकर या अपने निजी लैपटॉप / डेस्कटॉप या मोबाइल के माध्यम से अपने आवेदन प्रस्तुत कर सकते। हालाँकि, यदि वे कॉमन सर्विस सेंटर या वसुधा केंद्र के माध्यम से आवेदन करते हैं, तो उन्हें आवेदन शुल्क के रूप में 10 रुपये का भुगतान करना होगा।




क्या मैं उन विवरणों में सुधार कर सकता हूं जो मैंने आवेदन पत्र में भरे थे?
आप आवेदन जमा करने के 48 घंटे के भीतर विवरण में सुधार कर सकते हैं। उसके बाद, कोई सुधार संभव नहीं होगा और गलत जानकारी के साथ आवेदन अग्रेषित किया जाएगा। यह अंततः आवेदन की अस्वीकृति को जन्म देगा।


आपका समर्थन

उम्मीद है आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी से जरूर लाभ मिलेगा। यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आई हो तो कृपया अपने मित्रों तथा परिवारजनों के साथ जरूर शेयर करें।

यदि आपको इस जानकारी से सम्बंधित कोई जानकारी हेतु मदद चाहिए, तो आप हमसे सहायता ले सकते हैं। कृपया अपना प्रश्न नीचे कमेंट बॉक्स में लिखें। हमारी टीम आपकी पूरी सहायता करेगी। यदि आपको किसी और राज्य या केंद्र सरकार की योजना की जानकारी चाहिए तो कृपया हमें कमेंट बॉक्स में हमसे पूछें।

No comments

आपका हमारी वेबसाइट Hindireaders.in पर कमेंट करने के लिए ध्यन्यवाद। हमारी टीम आप से जल्द ही संपर्क करेगी तथा आपकी समस्या का हल करेगी। हमारी वेबसाइट Hindireaders.in पर आते रहें।