Thursday, February 2nd, 2023

की होंदा प्यार हिंदी लिरिक्स – Ki Honda Pyaar Hindi Lyrics (Arijit Singh, Neha Kakkar, Jabariya Jodi)

मूवी या एलबम का नाम : जबरिया जोड़ी (2019)

संगीतकार का नाम – विशाल मिश्रा

हिन्दी लिरिक के लिरिसिस्ट – राज शेखर

गाने के गायक का नाम – अरिजीत सिंह, नेहा कक्कड़, विशाल मिश्रा

अरिजीत सिंह

दिल टुट्टा वे, सब छुट्टा वे

माहिया तू की लै गया

जग रुट्ठा वे, हो रब झुट्ठा वे

बन्देया नू की कह गया

रोंदी रोंदी अँखियों से

सुपणे भी झर-झर जावे

की किस नू बतावे

की होंदा प्यार

दर-दर फिरे आ के यार

नज़र कित्थो आवे

की उसनू बतावे

की होंदा प्यार

दिल टुट्टा वे,हो सब झुट्ठा वे

माहिया तू की दे गया

जग रुट्ठा वे, हो रब झुट्ठा वे

माहिया तू की कह गया

रोंदी रोंदी अँखियों से…

कोई इश्क दिलासा दे के

इक इल्म ज़रा सा दे दे

वो जो मेरा था

मुझे ही क्यूँ मिलता ही नहीं

कभी तुझसे बग़ावत कर लूँ

चाहे चुपके इबादत कर लूँ

कुछ भी मैं कर लूँ

तू क्यूँ सुनता ही नहीं

मेरा महरम मारे ताने

मेरा इश्क रहम ना जाने

कैसी सच्ची प्रीत लगा के भी

तू कल्ला रह गया वे

टूटे-टूटे दिल दी ए धड़कन

तुर-तुर जावे

कित्थो उड़ जावे

की होंदा प्यार

पीर फकीरा वी किन्नी किताब पढ़ावे

कि समझ ना आवे

की होंदा प्यार

दिल टुटा माही

दिल टुटा माही…

आलम फ़ाज़िल यार सयाने

आये थे हमको समझाने

हमने कहा तुम्हें ख़ाक पता है

जिसको लगी है वो ही जाने

रोंदी रोंदी अँखियों से

सुपणे भी झर-झर जावे

कि नज़र ना आवे

की होंदा प्यार

पीर फकीराँ वी इन्नी किताब पढ़ावे

की समझ ण आवे

की होंदा प्यार

दिल टुट्टा वे

ओ सब झुट्ठा वे

माहिया तू की लै गया


नेहा कक्कड़

दिल टुट्टा वे, सब रुट्ठा वे

माहिया तू की दे गया

जग छुट्टा वे, रब झुट्ठा वे

बन्देया नू की कह गया

रोंदी रोंदी अँखियों से

सुपणे भी बह-बह जावे

की नज़र न आवे

की होंदा प्यार

दर-दर फिरे आ के यार

नज़र कित्थो आवे

की उसनू बतावे

की होंदा प्यार

दिल टुट्टा वे…

कोई इश्क दिलासा दे के

इक इल्म ज़रा सा दे दे

वो जो मेरा था

मुझे ही अब मिलता क्यूँ नहीं

कभी तेरी इबादत कर लूँ

कभी छुप के बगावत कर लूँ

कुछ भी मैं कर लूँ

तू क्यूँ सुनता ही नहीं

मेरा महरम मारे ताने

तेरा इश्क रहम ना जाने

कैसी सच्ची प्रीत लगा के भी

तू कल्ला रह गया वे

टूटे-टूटे दिल दी ए धड़कन

तुर-तुर जावे

कित्थो उड़ जावे

की होंदा प्यार…

दिल टुटा माही

दिल टुटा माही…

आलिम फ़ाज़िल यार सयाने

आये थे हमको समझाने

हमने कहा तुम्हें ख़ाक पता है

जिसको लगी है वो ही जाने

पीर फकीरा जो इन्नी किताब पढ़ावे

मैनू समझ ना आवे

की होंदा प्यार

दर दर फिरे आ के…